स्वच्छ सर्वेक्षण 2020

स्वच्छ सर्वेक्षण एक अखिल भारतीय सर्वेक्षण है जिसमें भारत के शहरों एवं कस्बों को स्वच्छता एवं अपशिष्ट प्रबंधन के आधार पर रैंकिंग दी जाती है। इसकी शुरुआत 2016 में देश के कुल 73 शहरों के मूल्यांकन के साथ हुई थी। तब इंदौर शहर ने सबसे स्वच्छ नगर होने का गौरव हासिल किया था।
इस वर्ष आवास एवं शहरी मामलों के मंत्रालय के द्वारा आयोजित स्वच्छ महोत्सव में केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 के परिणामों की घोषणा की। यह सर्वेक्षण प्रतिवर्ष होने वाले स्वच्छ सर्वेक्षण का पांचवा संस्करण है। इस सर्वेक्षण में कुल 4242 शहरों को शामिल किया गया था।
इस सर्वेक्षण के परिणाम कुछ इस प्रकार रहे :-
स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 में एक लाख से अधिक जनसंख्या वाले नगरों की श्रेणी में मध्य प्रदेश के इंदौर शहर को लगातार चौथी बार सबसे स्वच्छ नगर होने का गौरव हासिल हुआ। वही इस श्रेणी में सूरत और नवी मुंबई क्रमशः दूसरे और तीसरे पायदान पर रहे।
गंगा तट के किनारे बसे शहरों में वाराणसी को सर्वाधिक स्वच्छ नगर होने का सम्मान मिला।
100 से अधिक शहरी स्थानीय निकायों वाले राज्यों की श्रेणी में छत्तीसगढ़ अव्वल रहा। इस श्रेणी में महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे।
100 से कम शहरी स्थानीय निकायों वाले राज्यों की श्रेणी में झारखंड ने बाजी मारी। इसके बाद हरियाणा एवं उत्तराखंड का स्थान रहा।

इस सर्वेक्षण को आयोजित करने के पीछे स्वच्छता में नागरिक योगदान को बढ़ावा देना एवं स्वच्छता के मामले में राज्यों एवं शहरों के बीच प्रतिद्वंदिता को बढ़ावा देना ही मुख्य उद्देश्य है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *